ऑनलाइनक्षेत्रीय कन्टेन्ट का बढ़ती

  • Nandita Raman
  • |
  • Published Date : 24 March , 2017
  • |
  • Updated Date : 1 March , 2019
  • |
    • 4 min read

हर मार्केटिंग विशेषज्ञ कन्टेन्ट मार्केटिंग के महत्व को जानता है। यह ग्राहकों से जुड़ने और उन्हें जानकारी प्रदान करने का एक बेहतरीन तरीका है। अपने लक्षित श्रोताओं के लिए प्रासंगिक और मूल्यवान कन्टेन्ट तैयार करना प्रभावी कन्टेन्ट मार्केटिंग का मूल है। भारत में मोबाइल और इंटरनेट की वृद्धि के साथ, भारत के प्रत्येक शहर और गांव में इंटरनेट तक पहुंच बन गई है। इस इंटरनेट क्रांति को धन्यवाद, ज्यादातर लक्षित श्रोता अंग्रेजी के अलावा अन्य भाषा बोलते हुए पाए जा सकते हैं। तो आप इस समस्या का समाधान कैसे करेंगे? हमारा समाधान है बहुभाषी कन्टेन्ट रणनीति।

हिंदी कन्टेन्ट की खपत 94% की दर से बढ़ रही है।

अंग्रेजी, ज़ाहिर है, न केवल दुनिया में बल्कि भारत में भी सबसे अधिक इस्तेमाल की जाने वाली भाषा है। हालांकि, गूगल डेटा हिंदी कन्टेन्ट उपभोग में 94% की वृद्धि दर दिखाता है। इसे ध्यान में रखते हुए वैश्विक ब्रांडों ने अपनी रणनीति की कला के रूप में क्षेत्रीय भाषा पर ध्यान केंद्रित करना शुरू कर दिया है। एक साल पहले, फेसबुक यूज़र्स लॉग इन पेज हिंदी स्क्रिप्ट में देख कर हैरान हो गए थे। इसके बाद अमेरिका आधारित दृश्य खोज टूल पिनट्रस्ट ने एक हिंदी संस्करण लॉन्च किया, जिससे भारत के उपयोगकर्ताओं को अनुवादित संस्करण का उपयोग करने की सुविधा मिल गई। आज, गूगल अन्य भाषाओं के साथ हिंदी, गुजराती, मराठी, बंगाली और तमिल जैसी भाषाओं को भी सपोर्ट करता है। भारत में 127 मिलियन इंटरनेट उपयोगकर्ता स्थानीय भाषा के कन्टेन्ट का उपभोग करते हैं, सभी वैश्विक सोशल मीडिया साइटों ने इस तथ्य को महसूस किया है कि अगर वे भारत में स्थानीय नहीं जाते हैं तो वे जल्द प्रासंगिकता खो सकते हैं। द्वितीय और तृतीय टियर के शहरों के इंटरनेट उपयोगकर्ताओं की आवश्यकताओं को पूरा करते हुए, गूगल अब अपने उत्पादों जैसे गूगल मैप के उपयोग को स्थानीय भाषाओं में, खासकर हिंदी में, विस्तारित करने पर ध्यान केंद्रित कर रहा है।

क्षेत्रीय कन्टेन्ट की उपलब्धता भारत में इंटरनेट की वृद्धि को 24% तक बढ़ा सकती है।

74% साक्षरों में से, केवल 10% लोग अंग्रेजी पढ़ते हैं, जबकि बाकी लोग स्थानीय भाषा में कन्टेन्ट का उपभोग करते हैं। शेष 66% अपनी स्थानीय भाषा में साक्षर हैं। इंटरनेट और मोबाइल एसोसिएशन ऑफ इंडिया और IMRB इंटरनेशनल द्वारा किए गए एक नवीनतम अध्ययन के अनुसार, क्षेत्रीय कन्टेन्ट की उपलब्धता भारत में इंटरनेट के विकास को 24% तक बढ़ावा दे सकती है। भारत में 70,000 से ज्यादा अख़बार छपते हैं और लगभग 90% या तो हिंदी में या अन्य प्रादेशिक भाषाओं में छपते हैं। क्षेत्रीय कन्टेन्ट के महत्व को महसूस करते हुए, भारतीय ऐप डेवलपर स्थानीय ऐप वितरण प्लेटफॉर्म की आवश्यकता को भी पहचान रहे हैं। अंतर्राष्ट्रीय ऐप स्टोर खुद को अत्यधिक भारत-विशिष्ट क्षेत्रीय कन्टेन्ट की आसान खोज में अनुकूलित नहीं करते हैं।


क्षेत्रीय भाषा के कन्टेन्ट का विकास: एक मामले का अध्ययन

उद्यमियों और उद्यमशील पारिस्थितिकी तंत्र को बढ़ावा देने के लिए भारत के प्रमुख मंचों में से एक, Yourstory.com ने, हाल ही में क्षेत्रीय कन्टेन्ट के लिए अलग-अलग अनुभाग शामिल किया है।

उनकी क्षेत्रीय सामग्री रणनीति बहुत अच्छी तरह से बनाई गई है और दर्शकों से उसे सकारात्मक प्रतिक्रिया प्राप्त हुई है। जैसा कि आप देख सकते हैं, हिंदी के लेखों के 650 शेयर हुए हैं और तमिल कन्टेन्ट के 200 से अधिक शेयर हुए हैं। वेबसाइट अपने क्षेत्रीय भाषा के पेजों को दिलचस्प लेखों के साथ हर रोज अपडेट कर रही है। वेबसाइट 10 अन्य भाषाओं में भी सामग्री प्रदान करती है जिसमें मराठी, तेलगू और बंगाली शामिल हैं।

इसलिए यदि आपको विश्वास है कि क्षेत्रीय कन्टेन्ट विपणन महत्वपूर्ण है, तो यहां पर विचार करने के लिए कुछ चीजें दी गई हैं।

दर्शक प्राप्त होना और ग्लोबल SEO संचालित करना

यदि एक प्रमुख भाषा बहुमत बनाती है, तो अन्य भाषाओं को अनदेखा करना आसान होता है। हालांकि अंग्रेजी बहुमत बनाती है, एक ऐसा भी खंड है जो केवल एक क्षेत्रीय भाषा में ही कन्टेन्ट का उपयोग करता है और यह खंड आपके सबसे महत्वपूर्ण लक्षित दर्शकों के रूप में हो सकता है। एक अंग्रेजी रचना 0.1% से 0.15% क्लिक थ्रू अनुपात (CTR) प्राप्त करती है, जबकि एक भाषाई रचना 0.4-0.5% CTR प्राप्त कर सकती है। इसलिए अगर एक भाषा की सामग्री और रचना में आपके उत्पाद या वेबसाइट पर अधिक ट्रैफ़िक आकर्षित करने की संभावना है, तो उस पर अधिक ध्यान क्यों न दें?
 

 ग्राहक अपनी मातृभाषा के कन्टेन्ट पर बेहतर प्रतिक्रिया करते हैं

जब आप अपने ब्रांड की एक क्षेत्रीय भाषा में मार्केटिंग करते हैं, तो यह दर्शकों के भावनात्मक भाग को आकर्षित करता है। इसलिए कन्टेन्ट का स्थानीयकरण (लोकलाईजेशन) सृजन प्रक्रिया का अभिन्न अंग होना चाहिए। उदाहरण के लिए, मैकडॉनल्ड्स उत्पाद विकास के शुरुआती चरण में अपनी अंतरराष्ट्रीय टीमों को शामिल करता है, यह सुनिश्चित करता है कि जहां उसके अभियान चल रहे हैं, वहां के प्रत्येक विशिष्ट संस्कृति के लिए अपनी सबसे अधिक प्रभावी मार्केटिंग रणनीतियों का अनुकूलन कर सकता है। इसकी स्थानीय अनुवाद और स्थानीयकरण (लोकलाईजेशन) टीम सुनिश्चित करती है कि कन्टेन्ट प्रत्येक देश में उपयुक्त तरीके से लिखे जाते हैं।
 

सोशल मीडिया और कन्टेन्ट मार्केटिंग को एकीकृत करना

सोशल मीडिया में भाग लेने का आपका अंतिम लक्ष्य अपनी वेबसाइट पर ट्रैफिक वापस ले जाने की संभावना है ताकि आप उन दर्शकों को लीड में परिवर्तित कर सकें। एक बार जब आपकी क्षेत्रीय कन्टेन्ट तैयार हो जाता है और चलने लगता है, तब उस रणनीति को अपने सोशल मीडिया और पेड विज्ञापन के साथ एकीकृत करना एक बढ़िया विचार होगा। यह उपभोक्ताओं को आकर्षित करने के लिए महत्वपूर्ण हो सकता है और कई ब्रांड अपने विदेशी मार्केटिंग प्रयासों में इसे सफलतापूर्वक अपना रहे हैं।




Thank you for submitting your form!
WE MEAN GOOD BUSINESS